Friday, 2 September 2016

कन्हैया के कंधे पर चलेगी वामपंथी बंदूक

-18 को लखनऊ से शुरुआत, 19 को फैजाबाद में कार्यक्रम
-एआइएसएफ के बैनर तले जुटेंगे प्रदेश के छह वामपंथी दल
----
राज्य ब्यूरो, लखनऊ: प्रदेश की राजनीति में सांसें बचाने के लिए संघर्ष कर रहे वामपंथी दल चर्चित छात्र नेता व जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया को सहारा बना रहे हैं। 18 सितंबर को लखनऊ से कन्हैया का यह अभियान शुरू होगा, जिसमें दूसरा पड़ाव फैजाबाद होगा।
उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव नजदीक आते ही वामपंथी दलों को भी अपने भविष्य की चिंता सताने लगी है। प्रदेश के छह वापमपंथी दलों सीपीआइ, सीपीएम, सीपीआइ (एमएल), एसयूसीआइसी, फॉरवर्ड ब्लॉक व आरएसपी ने मिल कर चुनाव लडऩे का फैसला किया है। वाराणसी में संयुक्त सम्मेलन के साथ ही इन दलों का अभियान शुरू भी हो चुका है। अब इन दलों ने प्रदेश में युवाओं के बीच लोकप्रिय चेहरे के रूप में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को उतारने का फैसला किया है। इसकी शुरुआत 18 सितंबर को राजधानी लखनऊ से होगी। 18 को लखनऊ में कन्हैया के कार्यक्रम के बाद 19 सितंबर को फैजाबाद में भी कन्हैया के साथ युवाओं का संवाद आयोजित किया जा रहा है। फैजाबाद लंबे समय तक वामपंथी आंदोलन का केंद्र रहा है और वहां से विधानसभा में भी वामपंथ का प्रतिनिधित्व रहा है।
कन्हैया कुमार भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआइ) की छात्र इकाई अखिल भारतीय छात्र परिषद (एआइएसएफ) से जुड़े हैं। इसलिए राजधानी व फैजाबाद के आयोजनों की कमान औपचारिक रूप से एआइएसएफ के हाथ में ही रहेगी। इसके साथ सीपीआइ के नेतृत्व में सभी छह वामपंथी दलों का मोर्चा भी सक्रिय रहे है। इस मोर्चे के संयोजक मंडल के सदस्य व सीपीआइ की प्रदेश इकाई के सहायक सचिव अरविंद राज स्वरूप का कहना है कि कन्हैया कुमार युवाओं के बीच एक आइकन के रूप में उभरे हैं। वे भविष्य के वामपंथी नेतृत्व का हिस्सा हो सकते हैं। इसलिए सभी वामपंथी दलों ने विधानसभा चुनाव की अपनी मुहिम में कन्हैया कुमार को जोडऩे पर सहमति जताई है। कन्हैया के दोनों कार्यक्रमों में सभी छह दलों के लोग सक्रिय रहेंगे। इसके बाद विधानसभा चुनाव तक लगातार प्रदेश भर में कन्हैया के कार्यक्रम कराए जाएंगे।

No comments:

Post a Comment